मुख्य सामग्री पर जाएं | स्क्रीन रीडर का उपयोग
लिपि माप:  emailid emailid emailid emailid emailid
Rajya Sabha
आप यहां हैं : [मुख पृष्ठ ]>कार्य >सत्र का सार

सत्र का सार



SESSION FROM TO
219 22-02-2010 07-05-2010
218 19-11-2009 22-12-2009
217 02-07-2009 07-08-2009
216 04-06-2009 09-06-2009
215 12-02-2009 26-02-2009
214 17-10-2008 24-10-2008
10-12-2008 23-12-2008
213 25-02-2008 20-03-2008
15-04-2008 06-05-2008
212 15-11-2007 07-12-2007
211 10-08-2007 10-09-2007
210 23-02-2007 17-05-2007
209 22-11-2006 19-12-2006
208 24-07-2006 25-08-2006
207 16-02-2006 22-03-2006
10-05-2006 23-05-2006
206 23-11-2005 23-12-2005
205 25-07-2005 30-08-2005
204 25-02-2005 13-05-2005
203 01-12-2004 23-12-2004
202 05-07-2004 26-08-2004
201 04-06-2004 10-06-2004
200 02-12-2003 23-12-2003
30-01-2004 05-02-2004
199 21-07-2003 22-08-2003
198 17-02-2003 09-05-2003
197 18-11-2002 20-12-2002
196 15-07-2002   12-08-2002  
195 25-02-2002   17-05-2002
194 19-11-2001   19-12-2001
193 23-07-2001   31-08-2001
192 19-02-2001 27-04-2001
191 20-11-2000   22-12-2000
190 24-07-2000 25-08-2000
189 23-02-2000 17-05-2000
188 29-11-1999 23-12-1999
187 21-10-1999 29-10-1999
186 22-02-1999 23-04-1999

  सूचना के स्रोत :

अधिकारी फोन ई-मेल
श्री एस. के. गांगुली, संयुक्त सचिव 23034668 emailid
श्री के. सुधाकरन, संयुक्त निदेशक 23035445
emailid
टेबल ऑफिस 23034697 emailid

टिप्पणी: प्रत्येक सत्र के पश्चात् कार्य का सार (रिज्यूमे ऑफ बिजनेस) प्रकाशित किया जाता है और उसमें किसी सत्र के दौरान राज्य सभा में हुए कार्यों का सार शामिल होता है, जिसमें निम्नलिखित सहित कार्यों की प्रत्येक श्रेणी का संक्षिप्त विवरण होता है:-  

(i)शपथ लेने/प्रतिज्ञान करने वाले सदस्य
(ii)दिवंगतों के प्रति श्रद्धांजलि
(iii)समितियों के प्रतिवेदन
(iv)विशेष उल्लेख, ध्यानाकर्षण प्रस्ताव और अल्पकालिक चर्चा
(v)मंत्रियों द्वारा वक्तव्य
(vi)समितियों/निकायों के लिए निर्वाचन हेतु प्रस्ताव
(vii)प्रस्ताव और संकल्प
(viii)सरकारी और गैर-सरकारी सदस्यों के विधान कार्य

किसी दिन विशेष के कार्य से संबंधित सूचना के लिए 'सत्र का जर्नल' देखा जा सकता है और वास्तविक पाठ के लिए असंशोधित/शब्दश: कार्यवाही अथवा आधिकारिक प्रतिवेदन का अवलोकन किया जाना चाहिए।