मुख्य सामग्री पर जाएं | स्क्रीन रीडर का उपयोग
लिपि माप:  emailid emailid emailid emailid emailid
Rajya Sabha
आप यहां हैं: मुख पृष्ठ >प्रकियाएँ >राज्य सभा के प्रक्रिया तथा कार्य-संचालन विषयक नियम>संक्षिप्त नाम तथा परिभाषायें

संक्षिप्त नाम तथा परिभाषायें

1. संक्षिप्त नाम तथा प्रारम्भ

(1) ये नियम "राज्य सभा के प्रक्रिया तथा कार्य-संचालन विषयक नियम" कहलायेंगे।

(2) ये नियम ऐसी तिथि से प्रभावी होंगे जिसे सभापति नियत करे।

2. परिभाषाएँ

(1) इन नियमों में, जब तक कि प्रसंग से अन्यथा अपेक्षित न हो--

"राज्य सभा समाचार का तात्पर्य राज्य सभा के समाचार से है जिसमें
( क ) राज्य सभा की प्रत्येक बैठक की कार्यवाही का संक्षिप्त अभिलेख
( ख ) राज्य सभा के कार्य के बारे में या उससे संबंधित किसी विषय पर, या ऐसे अन्य विषय पर, जो सभापति की राय में उसमें सम्मिलित किया जा सके, जानकारी ; और
( ग ) राज्य सभा की समितियों या दोनों सभाओं की संयुक्त समितियों के बारे में जानकारी अंतर्विष्ट हो :

"सभापति" का तात्पर्य राज्य सभा के सभापति से है ;
"संविधान" का तात्पर्य भारत के संविधान से है ;
"वित्त मंत्री" के अंतर्गत कोई भी मंत्री है ;
"राजपत्र" का तात्पर्य भारत के राजपत्र ( गजट ) से है ;
"सभा" से तात्पर्य लोक सभा से है ;
"सभाओं" का तात्पर्य राज्य सभा और लोक सभा से है ;
"राज्य सभा का नेता" का तात्पर्य प्रधान मंत्री से है यदि वह सभा का सदस्य हो या उस मंत्री से है जो सभा का सदस्य हो और सभा के नेता के रूप में कार्य करने के लिए प्रधान मंत्री द्वारा नाम-निर्देशित किया गया हो ;
"सभाकक्ष"(लाबी) का तात्पर्य उस बन्द गलियारे से है जो सभा भवन से बिल्कुल सन्निकट है और जो सभा भवन के साथ ही समाप्त होता है ;
"सदस्य" का तात्पर्य राज्य सभा के सदस्य से है ;
"विधेयक का भार साधक सदस्य" का तात्पर्य सरकारी विधेयक की अवस्था में किसी मंत्री से है और अन्य किसी भी अवस्था में उस सदस्य से है विधेयक पुर:स्थापित किया है ;
"मंत्री" का तात्पर्य मंत्रि-परिषद् के किसी सदस्य, राज्य मंत्री, उपमंत्री अथवा संसदीय सचिव से है ;
"राज्य सभा की प्रसीमा" का तात्पर्य सभा भवन, सभा कक्षों, दीर्घाओं और उनको मिलाकर ऐसे अन्य स्थानों से है, जिनका सभापति समय-समय पर उल्लेख करे ;
"गैर-सरकारी सदस्य" का तात्पर्य मंत्री के अतिरिक्त किसी सदस्य से है ;
"महा सचिव" का तात्पर्य राज्य सभा के महा सचिव से है और उसके अंतर्गत ऐसा कोई भी व्यक्ति आता है जो उस समय महा सचिव का कार्य कर रहा हो ;
"पटल" का तात्पर्य राज्य सभा के पटल से है ;

(2) संविधान ओर इन नियमों में भी प्रयुक्त शब्दों तथा पदों के अर्थ, जब तक प्रसंग से अन्यथा अपेक्षित न हो, वहीं होंगे जो उन्हें संविधान में दिए गए हैं।